अर्जुन के शरीर में धड़कने लगा आसिफ का दिल

टीम डिजिटल

अहमदाबाद में पहला हार्ट ट्रांसप्लांट सर्जरी होने के साथ दिल को छु लेने वाला सन्देश भी मिला है.. कहा जाता है दिल से दिल मिलने से इंसानियत पैदा होती है. यहां एक दिल ने दो मजहबों को जोड़ दिया. मुस्लिम लड़के ने हार्ट को हिंदूू युवक में ट्रांसप्लांट कर उसे नई जिंदगी दी गई. गुजरात के अहमदाबाद मे पहली हार्ट ट्रांसप्लांट सर्जरी हुई. भावनगर के एक मुस्लिम युवक की मौत के बाद जामनगर के एक हिन्दु को नइ जिंदगी मिली. भावनगर में सड़क र्दुघटना में जांन गंवा चुके युवक आसिफ के दिल को अहमदाबाद सीम्स हॉस्पिटल लाया गया. यहां जामनगर के किसान अर्जुनभाई के शरीर में आसिफ के दिल को ट्रांसप्लांंट किया गया. भावनगर के शिहोर तहसील के सणोसरा गांव के पास चोरवडला में रहने वाले आसिफ खेत से घर लौट रहे थे. तभी राजकोट हाइवे पर सड़क क्रॉस करते वक्त एक कार की टक्कर से घायल हो गए. आनन-फानन में आसिफ को भावनगर की सर टी हॉस्पिटल में लाया गया, जहां पर डॉकटरों ने उन्हें ब्रेनडेड घोषित कर दिया. इसके बाद आसिफ के परिवार वालों ने आसिफ की किडनी और हार्ट दान करने का फैसला लिया. आसिफ का हार्ट जामनगर के किसान अर्जुनभाई के शरीर में लगाया गया और उनको नया जीवन मिला. भावनगर से अहमदाबाद करीब 176 किलोमीटर दूरी पर है. आमतौर पर इतनी दूरी तय करने में तीन घंटे लग जाते हैं, लेकिन हॉर्ट ट्रांसप्लांट करने के लिए आसिफ का हार्ट भावनगर से अहमदाबाद लाने के लिए पुलिस, ट्रैफिक पुलिस की मदद से 82 मिनट मेें सीम्स हॉस्पिटल लाया गया.

टिप्पणी भेजें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक क्षेत्रः चिह्नित कर रहे हैं *


Leak Story
Rajpur Road, Dehradun, Uttrakhand

Leak Story

Back to Top