13,860 करोड़ रुपए के कालेधन का खुलासा करने वाला शख्स हुआ ‘गायब’, खोज में जुटा आईटी विभाग

ब्यूरो

गुजरात. आय कर विभाग इन दिनों महेश शाह की खोज में जुटा हुआ है। महेश शाह अहमदाबाद के कारोबारी हैं जिन्होंने केंद्र सरकार की आय की स्वैच्छिक घोषणा योजना (आईडीएस) के तहत 13,860 करोड़ रुपए घोषित किए थे और चर्चा में आ गए थे। लेकिन अब वह मिल नहीं रहे। खबरों के मुताबिक, 45 साल से शाह 30 नवंबर से कुछ दिन पहले से लापता हैं। 30 नवंबर को उन्हें घोषित राशि का 25 प्रतिशत (पहली किश्त) जमा करवाना था लेकिन वह उससे चूक गए थे। इनकम टैक्स के अधिकारी शाह के घर के साथ-साथ उनके ऑफिस में भी उनको ढूंढ रहे हैं लेकिन वह कहीं नहीं मिले। एनडीटीवी की खबर के मुताबिक, शाह के सीए तेहमुल सेठना से भी पुलिस ने बात की। उन्होंने ही शाह को आय की घोषणा करने के लिए कहा था। वहीं शाह के परिवार का कहना है कि वह भाग नहीं रहे बल्कि पिछले 15 दिनों से लापता हैं। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का कहना है कि पिछले एक हफ्ते से शाह का कोई पता नहीं है। दरअसल शाह आयकर विभाग की जांच के घेरे में हैं क्योंकि वो घोषित 13,860 करोड़ रुपए पर टैक्स देना भूल गए थे। केंद्र सरकार की इस योजना के तहत 30 सितंबर तक सरकार को 45 प्रतिशत टैक्स देकर अघोषित आय घोषित की जा सकती थी। इस योजना के तहत अघोषित आय पर टैक्स चुकाने के बाद आय की स्वैच्छिक करने वाले पर आयकर विभाग की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं होनी थी। महेश शाह ने योजना के आखिरी दिन 13,860 करोड़ रुपए अघोषित आय की जानकारी आयकर विभाग को दी थी। आयकर अधिकारियों के अनुसार महेश शाह को आय की स्वैच्छिक घोषणा के तहत घोषित आय पर दिए जाने वाले टैक्स की 975 करोड़ रुपये की पहली किश्त 30 नवंबर तक चुकानी थी लेकिन वो इससे चूक गए। चूंकि शाह ने टैक्स की पहली किश्त नहीं चुकाई है इसलिए अब उनके द्वारा घोषित 13 हजार करोड़ रुपये “कालाधन” हो गया है। स्वैच्छिक घोषणा योजना (आईडीएस) के तहत घोषित 65,000 करोड़ रुपए में से 20 प्रतिशत सिर्फ शाह ने दिया था। पिछले 2-3 सालों में वह टैक्स के रूप में दो से तीन लाख रुपए देते थे। महेश शाह गुजरात में 4-BHK अमार्टमेंट में रहते हैं। वह काम पर ऑटोरिक्शा से जाने के लिए भी मशहूर हैं।

टिप्पणी भेजें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक क्षेत्रः चिह्नित कर रहे हैं *


Leak Story
Rajpur Road, Dehradun, Uttrakhand

Leak Story

Back to Top